Bond Kya Hota Hai,About Bond in Hindi

आज कल बहुत सारी Company और Goverment, दोनों मिलकर कई सारी ऐसी योजनाएं चला रही है जिससे की लोगो को लाभ हो। यह योजनाएं अधिकतर Third Sector के काम यानि की Banking आदि से भी जुड़ी हुई है। उनमे से ही एक योजना है Bond, जिसके बारे में काफी कम लोग जानते है। आज मैं आपको इसी के बारे में बताऊँगा।

क्या होता है बांड,बॉन्ड क्या हैं,बांड का क्या मतलब है,What is Meaning of Bonds,बॉन्ड कैसे काम करते हैं,बॉन्ड वैल्यु कैसे तय होती है,बॉन्ड रिटर्न क्यों बढ़ रहा है,बॉन्ड (यील्ड) रिटर्न बढ़ने का असर,बॉन्ड मार्किट की जानकारी,बॉन्ड का अर्थ,बॉन्ड कैसे काम करते हैं,बॉन्ड वैल्यु कैसे तय होती है

Bond Kya Hai , what Is Bond in Hindi ?

Bond  Loan Securities के लिए भेजा जाता हैं। इसमें एक Investor किसी Corporation या Government से Bond खरीदता है। इस Period में जो Bond का Issuer होता है वह Bond के द्वारा कमाए गए ब्याज को चुकाता है।

Bond एक प्रकार का Loan deed हैं जो की Public के द्वारा पैसे कमाने के लिए जारी किये जाते हैं चूंकि Bond में Investment को अन्य की तुलना में बहुत कम Risky बताया जाता है, लोग अपनी जमा कीये हुए पैसे पर ब्याज पाने के लिए या Tax की बचत करने के Motive से इसमें Investment करते हैं।

हांलाकि Bond की Rates ब्याज की दरों से उलटे रूप से Releted हैं, जैसे- जब ब्याज की Rates बढेंगी, बॉन्‍ड की दरें कम होंगी या इसका ठीक Opposite होगा। यानि की जब Bond की दरे कम जब ब्याज ज्यादा।

 

Bond Kitne Type(प्रकार) Ke Hote Hai ? Types of Bond in Hindi ?

  1. Public Sector Undertaking Bonds
  2. Corporate Bond
  3. Emerging Markets Bond
  4. Tax Saving Bonds

###1 . Public Sector Undertaking Bonds :: यदि आप Indian Bond Market में Middel से लंबे Period के Investment की तलाश कर रहे हैं, तो एक Public Area के Venture Bond एक अच्छा Option हो सकता है।

Public Area के Venture जारी किए जाते हैं और Indian Government द्वारा Supported होते हैं, लेकिन वे आम तौर पर एक Private आधार पर बेचे जाते हैं। दूसरे शब्दों में, भारत सरकार Investors को स्वयं को लक्षित करती है और इन Investors को Fix Rates पर Bond प्रदान करती है। एक Invest Banker आम तौर पर केवल इस Condition में एक बीच के काम करने वाले के रूप में कार्य करता है।

 

###2 . Corporate Bond :: ये ज्यादा Conventional bond हैं, जो भारत में Private Corporation द्वारा उन Terms and Condition के लिए प्रदान किए जाते हैं जो 15 साल तक रह सकते हैं।

पहले Mention किए गए Goverment Bonds के Opposite, कोई भी Corporate Bond Buy कर सकता है। हालांकि, Default का एक बड़ा जोखिम है और जो Bond, Market की Condition, Company की Industry और उसके Investment Ratings का Support कर Corporation पर निर्भर कर सकते हैं। लेकिन जोखिम में Investment पर ज्यादा Return आता है।

###3 . Emerging Markets Bond :: Indian Government द्वारा जारी किए गए ये Bond, विदेशों में Third World के देशों में आर्थिक विकास के लिए पूंजी जुटाने के लिए Hard Currency के रूप में जारी किए जाते हैं।

जरूर आप सोच रहे होंगे की इन Bonds के बारे में क्या अलग है? यह है कि वे आम तौर पर US Doller या Euro में जारी किए जाते हैं, जो उन देशों के Investors को ज्यादा Attractive बना सकते हैं।

इन ईएम Bonds को Attractive बनाना भी ब्याज Rate है, जबकि Higher रूप से जारीकर्ता द्वारा Pay किया जाता है। भारत जैसे देशों में जोखिम कम Credit Rating है और Bond की Success देश के आर्थिक विकास की Success से Releted है।

 

###4 . Tax Saving Bonds :: Indian Government Special Bonds जारी करती है जो अपने Citizen को Loan का Pay करने से आंशिक रूप से या पूरी तरह से जारी होने की Permission देती है।

उनमें से ज्यादातर India के Reserve Bank द्वारा जारी किए जाते हैं। ये पांच साल के Bond 6.5% की Intereste Rate पर Sell किये गए हैं और हर Half Year के दौरान ब्याज का Pay किया जाता है।

Investors के लिए ऊपर यह है कि इस Bonds की Buying के Through, Releted Intereste Income पर Loand का Pay करने से उन्हें Free कर दिया जाता है, जब तक कि वे पूरी तरह से समर्थ होने तक Relationship नहीं रख देते।

Bond Kam Kaise Karta Hai,How Bonds work in Hindi ??

कई बार हमारे goverment या फिर किसी company को अपने लिए पैसे जमा करना होता है तो वो सीधे किसी bank से रकम न लेकर निवेशको के जरिये bond से पैसे जुटाती है और इसमें bond comapny पहले तय कर देती है पैसे return के time कितना ब्याज देना होगा |

Bond Ki Value Kaise Tay Hoti Hai , How The Bond Value is Fixed in Hindi

actully ये कोई एक formula पर work नहीं करती है ये कई बातो पर निर्भर करती है example ये कैसे आदमी को पैसे दिए है और वो कितना भरोसेमंद है,वो कोण है उसे कितना ब्याज पर पैसे दिए गए है इन्ही सब बातो पर depend करती है

Than Guys, I Hope आपको यह Post पूरा समझ में आया होगा और आप जान गए होंगे की Bonds क्या है? अगर आप ऐसे ही और अधिक Post पढ़ना चाहते है तो अभी AnyTechInfo के Free Newsletter को Join करे !!

Previous articleLaptop/PC Ko WiFi Hotspot Kaise Banaye
Next articleTime/Samay Se Pahle Internet Pack Kyu Khatm Ho Jate Hai
मै Ravi Kumar, मै एक Teacher(math,Computer) हूँ,और साथ मे Internet Aur Technology पर Post लिखना मुझे पसंद है,मै फ्री-टाइम में AnyTechinfo.com पर Post डालता हूँ. आप सभी से request है इस साईट को सफल बनाने की मेरी कोशिश में अपना सहयोग दें. अगर आपको यह Post अच्छा लगा हो तो कृपया इसे Facebook And Other Social Media पर Share जरूर करें| आपका यह प्रयास हमें और अच्छे Article लिखने के लिए प्रेरित करेगा| AnyTechinfo.com को The best Hindi Blog बनाने के लिए बस आप लोग अपना साथ बनाए रखे और हमें सपोर्ट करते रहें.

15 COMMENTS

  1. Mr. Ravi,

    mai khud ek investor hu or direct stock mai invest karta hun.. Mai bond mai bhi invest karna chahta hu pr iski puri knowledge na milne ki wajah se abhi tak isme invest nhi kar paya.

    par dhanywad dena chahunga apko ki apne Bond ki info hum sabhi investor ke sath share kari.

    Thankyou,,,!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here