What Is Chromium In Hindi,Chrome And Chromium Me Difference

हम सभी जानते हैं कि Google Chrome एक ब्राउजर है जो कि दुनिया के सबसे बेहतरीन ब्राउज़र में आता है और अगर Android की बात करें तो आप का यह कहना बिल्कुल गलत नहीं होगा कि Google Chrome सबसे शानदार Android ब्राउज़र है। ब्राउज़र इतना शानदार है कि यह आराम से यूसी ब्राउज़र को भी बीट कर सकता है।

Google Chrome को खुद दुनिया की सबसे बड़ी कंपनियों में से एक कंपनी Google संभालती है तो इसका बेस्ट होना तो पक्का ही है। Google क्रोम ओपन सोर्स वेब ब्राउज़र Chromium के Source Codes का उपयोग करता है और Google Chrome इसके द्वारा कुछ शानदार फीचर्स को ऐड करते हैं।

यह सब जानकारी प्राप्त होने के बाद आपके दिमाग में जरूर यह बात आ रही होगी कि क्रोमियम Browser आखिरकार होता क्या है और यह Google Chrome से किस तरह से आनंद यानी कि डिफरेंट है ? तो आज मैं आपको इस पोस्ट में किसी के बारे में बताऊंगा।

What Is Chromium in Hindi ? Chromium Kya Hai Puri Jankari

एक तरह से Google क्रोम की सहायता करने वाला क्रोमियम एक ओपन सोर्स ब्राउज़र है। यह ओपन सोर्स ब्राउज़र क्रोमियम प्रोजेक्ट द्वारा मेंटेन और Devlope किया जाता है।

जब दुनिया की सबसे बड़ी डिजिटल कंपनी Google ने पहली बार 2008 में Google क्रोम जैसे शानदार Browser को लांच किया था तो Google ने इसके साथ ही क्रोमियम सोर्स कोड भी जारी किया था जो कि एक ओपन सोर्स प्रोजेक्ट के रूप में Google क्रोम पर ही आधारित था।

इसके विभिन्न हिस्सों के लिए विभिन्न Software काम करते थे जो कि काफी सारे लाइसेंस पर आधारित थे, जिनमे से एक लाइसेंस Google का भी है। Browser Google Chrome को Google खुद मेंटेन करता था जबकि एक Chromium को प्रोजेक्ट कंपनी Chromium Project द्वारा मेंटेन किया जाता था।

 

Difference Between Chromium And Google Chrome in Hindi | Google Chrome aur Chromium me kya difference Hai ??

आप इन दोनों की हल्की पहचान इससे भी कर सकते हो कि Chrome रंगीन है जबकि Chromium नीला है लेकिन यह केवल अकेला Difference नहीं है बल्कि इसके अलावा भी कई सारे Difference है जिसके बारे में मैं आपको अब बताऊंगा।

इन दोनों Browser का अगर कोई सबसे बड़ा अंतर है तो वह यह है कि Google क्रोम क्रोमियम पर आधारित है। Google Chrome में Automatic Updates होते रहते है साथ ही इसमे Videos के Support जैसे कई सारे शानदार फीचर्स भी शामिल है जबकी क्रोमियम में ऐसा नही होता। उसके लिए क्रोमियम प्रोजेक्ट कंपनी को क्रोमियम के Software में अपडेट करना पड़ता है।

 

वैसे तो Google क्रोम क्रोमियम पर आधारित है लेकिन Google क्रोम ब्राउज़र में Google ने कई सारे अलग और बेहतरीन फीचर्स यानी के प्रोप्राइटरी को ऐड किया है। यह कुछ ऐसे क्लोज सोर्स बीट है जिसकी क्रोमियम में कमी है।

क्रोम के कई सारे अपडेट दिन-ब-दिन आते रहते हैं। क्योंकि क्रोम का Software खुद भी अपडेट करता है और Google कंपनी भी इस को अच्छे तरीके से मेंटेन करती है जब की क्रोमियम प्रोजेक्ट कंपनी अपना काम सही तरीके से नहीं करती है जिसके कारण क्रोमियम में अधिकतर अपडेट नहीं आते हैं।

कुछ लिनक्स डिस्ट्रीब्यूशन के Aadhaar पर पैकेज रेपोसिटोरिएस के द्वारा अपडेट उपलब्ध कराए जाते हैं।  Google के अपडेट का उपयोग Google अर्थ जैसे कुछ शानदार और Useफुल एप्लीकेशन के लिए भी किया जाता है।

Google क्रोम पर क्रोम वेब स्टोर जैसे फीचर है जिनमें हम एक्सटेंशन को भी ऐड कर सकते हैं जबकि क्रोमियम में ऐसे फीचर देखने को नहीं मिलते और क्रोमियम Google Chrome के मुकाबले बेहतर नहीं है।

 

Google क्रोम ब्राउज़र के लिए Google एक्सटेंशन को डिसेबल कर देता है जो कि Google Chrome के लिए सूट नहीं होते, जबकि क्रोमियम में ऐसी कोई सर्विस है ही नहीं।

Google ने हाल ही में Google Chrome में डाटा यूसेज का ऑप्शन Add किया जिससे कि हमें पता लग सकता है कि इसमें हमने कितना डाटा यूज़ किया है लेकिन क्रोमियम में ऐसा कोई फीचर नहीं है यानी कि यह क्रोमियम के विपरीत है।

अब एक और अंतर यह भी आ जाता है कि Google Chrome और क्रोमियम दोनों में ही सेंड बॉक्स उपलब्ध है लेकिन क्रोमियम का सेंड हुआ कुछ ज्यादा ही एडवांस है क्योंकि हम इसमें कुछ लिनक्स डिस्ट्रीब्यूशन स्कोर डिसेबल कर सकते हैं जबकि Google Chrome में ऐसा नहीं हो सकता।

हम यह कह सकते हैं कि भले ही क्रोमियम Google का प्रोडक्ट नहीं हो लेकिन Google इस पर भी काफी ज्यादा ध्यान देता है। एग्जांपल के तौर पर आप यह देख सकते हैं कि क्रोमियम और Google Chrome में पाए जाने वाला सिंक फीचर एक जैसा ही है।

 

जहां एक तरफ Google क्रोम ब्राउज़र के लिए बनाया गया है वहीं दूसरी तरफ क्रोमियम Google Chrome पर रन हो रहे Codes को Devlope करने के लिए बनाया गया है।

Google Chrome Google के द्वारा ऑफिशियली पूरी तरह से रिलीज है लेकिन क्रोमियम अभी भी Devlopeमेंट की उच्च अवस्था में है। यानी कि कहा जाए तो Google क्रोम क्रोमियम से काफी मायने में ज्यादा बेहतर है लेकिन क्रोमियम के बिना Google क्रोम भी इतना बेहतर नहीं हो पायेगा जितना कि अभी है।

क्योंकि Google Chrome ओपन सोर्स नहीं है इसलिए वह Ubuntu में डिपॉजिटरी में डिफ़ॉल्ट रूप से यूज़ नहीं किया जा सकता। लेकिन फिर भी Google इस सुविधा को अधिक बेहतर बनाने के लिए थर्ड पार्टी का Use करता है यानी कि थर्ड पार्टी के जरिए हम यह काम कर सकते हैं।

आपको बता दें कि Google Chrome का उपयोग Windows और Android में किया जाता है जबकि क्रोमियम का उपयोग केवल Ubuntu में किया जा सकता है।

 

अगर सिंपल लैंग्वेज में कहा जाए तो Google Chrome एक कमर्शियल क्लोज्ड सोर्स प्रोडक्ट है। जो कि अब अपने सोर्स कोड क्रोमियम से प्राप्त करता है।

अब आखिरकार इसके एक और अच्छी खास अंतर की बात करें तो Google Chrome में हमें एक सैंड बॉक्स वाले पेपर एपीआई में फ्लैश प्लगइन मिल जाता है, जो कि Google Chrome के इस पार्ट को अपने आप ऑटोमेटिक अपडेट करता रहता है। लिनक्स पर सबसे मॉडर्न वर्जन प्राप्त करने का यह सबसे परफेक्ट तरीका कहां जाता है।

Google Chrome और Chromium Browser एक दूसरे से काफी हद तक Connected है जिसका एक कारण यह था कि Google Chrome Chromium के Source Codes को उधार लेता था और उससे अपने काम पूरे करता था।

आप इन दोनों की हल्की पहचान इससे भी कर सकते हो कि Chrome रंगीन है जबकि Chromium नीला है लेकिन यह केवल अकेला Difference नहीं है बल्कि इसके अलावा भी कई सारे Difference है जिसके बारे में मैं आपको अब बताऊंगा।

क्रोम के कई सारे अपडेट दिन-ब-दिन आते रहते हैं। क्योंकि क्रोम का Software खुद भी अपडेट करता है और Google कंपनी भी इस को अच्छे तरीके से मेंटेन करती है जब की क्रोमियम प्रोजेक्ट कंपनी अपना काम सही तरीके से नहीं करती है जिसके कारण क्रोमियम में अधिकतर अपडेट नहीं आते हैं।

 

तो दोस्तों, उम्मीद करता हूं कि आपको क्रोमियम के बारे में पता चल गया होगा और आप Google Chrome और क्रोमियम में काफी सारा अंतर भी समझ गए होंगे।

अगर आप आगे आने वाले समय में भी ऐसे ही शानदार पोस्ट को अपने ईमेल इनबॉक्स में पाना चाहते हैं तो हमारे ब्लॉग के फ्री न्यूज़लेटर को सब्सक्राइब करें। इस पोस्ट को सोशल मीडिया पर शेयर जरूर करें और हमेशा सराहना दे !

 

Previous articleTyping Sikhane Wali Top 5 Website
Next articleWhatsApp Business App Kya hai,Istemal Kaise Kare
मै Ravi Kumar, मै एक Teacher(math,Computer) हूँ,और साथ मे Internet Aur Technology पर Post लिखना मुझे पसंद है,मै फ्री-टाइम में AnyTechinfo.com पर Post डालता हूँ. आप सभी से request है इस साईट को सफल बनाने की मेरी कोशिश में अपना सहयोग दें. अगर आपको यह Post अच्छा लगा हो तो कृपया इसे Facebook And Other Social Media पर Share जरूर करें| आपका यह प्रयास हमें और अच्छे Article लिखने के लिए प्रेरित करेगा| AnyTechinfo.com को The best Hindi Blog बनाने के लिए बस आप लोग अपना साथ बनाए रखे और हमें सपोर्ट करते रहें.

11 COMMENTS

  1. Sir aap mujhe he bataye ki aapke site pe konsi hosting hai kisi company ki aur sath me ye bhi bataye ki hum Apna WordPress KO bina uninstall kiye hosting company kaise change karenge aur ye bhi bataye ki hum newspaper theme me Jo title or tagline jaise anytechinfo aur tech tutorial Hindi me ke beech me Jo by default | sign rahta hai usko hum – sign me kaise change karenge aur agar maine aapse jyada questions pucha liya hoga toh bura nahi maniyega….thanks

    • Mere Site Par Hostgatore Ka Hosting Hai.. Shared Hosting Hai yes Aap.Bin Unsitall Kiye. Change Kar sakte ho Process Simple Hai Google Ki Helo.Lo…

      Aap Title Me Hi Ye Sign Add Kare Settings se

      Aapne 2 Sawal Hi Puchha Aap.Lakho Sawal.Puchho Isme Bura Lagne Wala Swal.Hi Nahi hai Sawal.Ye Hai Hum Kitna Jaldi Reply Kar Pate Hai

  2. Bro yaar ek baar mere blog ko check karke bata do ki blog post ki rank ko increase kaise karu, Jab mere blog me .blogspot domain tha tab kaafi acchi rank par thi meri post lekin ab .com domain laga liya hai 2 month se jyada ho gaye post rank nahi kar rahi koi bhi Jabki alexa bhi sahi hai mere blog ki.

    Please Help

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.