Sensex Kya Hota Hai,Fayde Kya Hai ?

नमस्कार दोस्तों AnyTechInfo की एक और पोस्ट में आपका स्वागत है आज की इस पोस्ट में हम आपको sensex की information देंगे। अक्सर news देखते टाइम अगर आप किसी business channel को लगा देते हैं तो वहां आमतौर पर sensex के घटने और बढ़ने की बाते होती रहती है कि आज sensex इतना ऊपर गया तो sensex आज इतना अंक नीचे आया।

क्या आपके दिमाग में इनको सुनकर sensex के बारे में जानने की जिज्ञासा उत्पन हुई है अगर हां तो आप बिल्कुल सही site पर आए है क्युकी आजके इस post में हम आपको बताएगे की ” sensex क्या होता है और इसकी गणना कैसे की जाती हैं”।

Sensex क्या होता है? SenSex Kya Hai ? What is sensex In Hindi ?

Sensex Word Sensitive और Index Word से बना हुआ हैं। SENSEX का पूरा नाम है – The Bombay Stock Exchange Sensitive Index. Sensex भारतीय equity मार्केट के लिए एक equity benchmark index है।

यह भारत में दो प्रमुख शेयर stock indices में से एक है। यह आधिकारिक तौर पर S&P BSE Sensex के रूप में जाना जाता है, यह बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (जिसे बीएसई के रूप में जाना जाता है) द्वारा संचालित किया जाता है।

Sensex NSE द्वारा 1 जनवरी, 1986 को पेश किया गया था। यह 13 क्षेत्रों में 30 भारतीय कम्पनियों के औसत भार का प्रतिनिधित्व करता है।

आसान शब्दों में हम कहें तो यह BSE की equity benchmark index है। Sensex 30 BSE शेयरों को ध्यान में रखता है जो कि सबसे अधिक सक्रिय रूप से कारोबार करते हैं। ये शेयर विभिन्न कारकों जैसे ट्रेडिंग आवृत्ति, बाजार पूंजीकरण, शेयरों के क्षेत्र, उनके लिस्टिंग इतिहास और अधिकता के आधार पर चयन किए जाते हैं।

 

Sensex के movement इन 30 शेयरों पर निर्भर करता है। अगर इन शेयरों की मांग और उनके मूल्य में वृद्धि होती है तो यह बढ़ता है और अगर मांग कम है और कीमतें कम हो जाती हैं तो यह गिर जाता है ।

BSE Bombay Stock Exchange का short form है।BSE 1875 में स्थापित, 1 जनवरी 1986 तक बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का कोई आधिकारिक सूचकांक नहीं था, भारतीय बाजारों के प्रदर्शन का अनुमान लगाने के लिए सेंसेक्स को अपनाया गया था।

शायद अब आप sensex के defination को अच्छे से समझ गए होंगे चलिए अब आपको इसके Calculation Methodology के बारे में बताते है।

 

Sensex Ke Liye Calculation Methodology Kya Hai ?

दुनिया के अन्य सभी प्रमुख financial indices की तरह, सेंसेक्स भी 1 सितंबर, 2003 से अपने आंकड़ों को निर्धारित करने के लिए ‘ Free Float market capitalization’ ‘ पद्धति में स्थानांतरित हो गया है। सूचकांक का स्तर, प्रदर्शन के direct reflection है बाजार में 30 चयनित प्रमुख शेयर Free Float market capitalization’ को परिभाषित किया जाता है कि कंपनी द्वारा जारी किए गए कुल शेयरों के अनुपात जो बाजार में व्यापार के लिए आसानी से उपलब्ध हैं।

यह आम तौर पर promoters’ holding, government holding, strategic holding और अन्य locked-in shares को शामिल नहीं करता है जो normal course में व्यापार के लिए बाजार में नहीं आएगा। इसलिए simply Free Float market capitalization’ आम जनता के व्यापार के लिए उपलब्ध कुल शेयरों का ratio है।

 

Sensex Ko Calculat(गणना) Kaise Kiya Jata Hai ?

दोस्तों जैसा की अब आप sensex और इसकी calculation methodology के बारे में जान चुके हैं तो अब मैं आपको इसकी Calculation की process के बारे में बताता हूं। sensex की गणना नीचे बताए गए Steps द्वारा की जाती हैं।

  1. शायद आप जानते होंगे की index वाले 30 कंपनियों में से प्रत्येक के market capitalization को पहले अपने शेयरों की कीमत multiply करके उस कंपनी द्वारा जारी शेयरों की संख्या के साथ पहले determined किया जाता है।
  2. फिर free-float market capitalization पाने के लिए free float factor के लिए गुणा किया जाता है। (एक कंपनी का फ्री-फ्लोट का कारक एक से अधिक है जिसके साथ उस कंपनी का कुल market capitalization अपने Index constituents पर पहुंचने के लिए समायोजित किया जाता है। यह बीएसई द्वारा कंपनियों द्वारा प्रस्तुत की गई जानकारी के आधार पर निर्धारित किया जाता है। फ्री-फ्लोट का कारक 05 और 1.00 के बीच है। 0.55 का कहना है कि free-float का मतलब है कि कंपनी के का केवल 55% इंडेक्स कैलकुलेशन के लिए विचार किया जाएगा।)
  3. Index constituents के free-float market capitalization को एक संख्या से विभाजित किया जाता है जिसे index डिविज़र के नाम से जाना जाता है। यह index भाजक index के मूल आधार अवधि मान का एकमात्र कड़ी है। (सेंसेक्स के लिए आधार मूल्य अवधि 1 978-79 है) यह मान समय की अवधि में index की comparison करने के लिए प्रदान करता है।

 

SENSEX के फायदे- Kya Fayede Hai Sensex, Benefit Of sensex In hindi

दोस्तो क्युकी अब आप sensex के बारे में काफी कुछ जान चुके हैं इसलिए मैं आपको इसके फायदों के बारे में बता देता हूं। वैसे तो sensex के बहुत से फायदे है लेकिन मैं आपको यहां इसके कुछ प्रमुख फायदों के बारे में बताता हूं।

  1. Sensex से हमें आसानी से BSE के परफॉरमेंस के बारे में एक नजर में पता चल जाता हैं। इसके साथ ही हमें sensex से बाजार में होने वाली तेजी और मंदी की सुचना आसानी से मिल जाती आज और देश की अर्थव्यवस्था की जानकारी भी हमें आसानी से मिल जाती हैं।
  2. और इसके साथ ही जब sensex ऊपर जाता है तो companies के शेयर भी बढ़ते है और investors कंपनी में पैसे लगाते हैं जिससे company expand होती हैं। इसके साथ ही sensex में उछाल आने पर भारतीय रुपया dollar के मुकाबले मजबूत होता हैं।

 

Pro Tip: अगर आप शेयर बाज़ार में निवेश करने का मन बना रहे है तो पहले share बाज़ार की बारीकियों को समझे और शेयर बाजार की study करें।

तो दोस्तो उम्मीद करते हैं आपको हमारी ये जानकारी ” sensex क्या होता है और इसकी गणना कैसे की जाती हैं” पसंद आयी होगी अगर आपको किसी प्रकार का डाउट है तो हमें कॉमेंट करके जरूर बताएं।

ये पोस्ट अपने दोस्तो और उन लोगों के साथ जरूर करें जो share market में इंटरेस्ट रखते हैं और इसके बारे में जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं। हम अपनी अगली पोस्ट में आपको share मार्केट की और जानकारीयां देंगे और उन जानकारियों को जल्द से जल्द अपने ईमेल inbox में पाने के लिए इसके आप हमारे ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर कर लें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here